Turning the wheel…

…..when the blue water plays with the shore to tell something…..

खो दिया हमने…!!!

Posted by Rewa Smriti on October 1, 2012

I have received a poem filled with pain and sorrow. It is written by Vishal, who is an alumnus(Batch 2003-10) of JNV Katihar and currently pursuing his B.Tech in ISM Dhanbad. This poem is written in memory of our beloved Iqbal sir.

खो दिया हमने…!!!

एक हसीन युग के
“मसीहे” को
खो दिया हमने…!!!

उस हरी-भरी वादियो के
“बादशाह” को
खो दिया हमने…!!!

JNV-कटिहार को स्वर्ग बनाने वाले
“देवता” को
खो दिया हमने…!!!

जो कोई ना कर सके
उस काम(100% रिज़ल्ट) को
कर देने वाले “”मोटिवेटर” को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ नॉन-वेज का नामोनिशान ना था
वहाँ वीक में तीन दिन नॉन-वेज
दिलाने वाले “मॅनेजर” को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ जूनियर तक फुल यूनिफॉर्म
पहनकर नही आते थे
वहाँ सीनियर तक को फुल यूनिफॉर्म
पहनवा देने वाले “एंग्री मेन” को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ रेगुलर क्लासेस को
बीत गयी थी कई सदिया
वहाँ रेगुलर रेमीडीयल तक
करवाने वाले “प्रिंसिपल” को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ होस्टेल-गार्डेन तक ठीक नही था
वहाँ अकॅडेमिक बिल्डिंग & मेन गेट तक
मस्त वाला गार्डेन
बनवा देने वाले “इंसान” को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ कभी भी दो सौ से ज़्यादा स्टूडेंट्स
असेंब्ली अटेंड नही करते थे
वहाँ पूरा का पूरा पाँच सौ स्टूडेंट्स को
टाइम्ली असेंब्ली अटेंड करना
सीखा देने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ सिक्स क्लास का बच्चा भी
बहाना बनाकर मॉर्निंग P.E.T.में
नही आता था
वहाँ टेन्थ न्ड ट्वेल्थ को
प्री-बोर्ड टाइम में भी
मॉर्निंग-वॉक को
बुला लेने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ 8th क्लास का बच्चा भी
बिना पेरेंट्स के घर चला जाता था
वहाँ सीनियर्स तक को भी
पेरेंट्स के साथ ही सेफ होकर जाने की आदत
डलवा देने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ बस एक सिंपल सा TV था
वहाँ LCD विथ Tata sky
लगवा देने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ जूनियर्स, सीनियर्स के गुलाम थे
वहाँ से सेनिओरिटी
हटवा देने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ मेस मे बैठ
कोई नही ख़ाता था
वहाँ गर्ल्स तक को
मेस में बैठाकर
खिलवा देने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

जहाँ टीचर्स की इज़्ज़त
नही करते थे बच्चे
वहाँ हर किसी को बड़ों का रेस्पेक्ट करना
सीखा देने वाले इंसान को
खो दिया हमने…!!!

& Lastly

जहाँ कुछ भी अच्छा नही था
वहाँ सब कुछ
अच्छा कर देने वाले
“गॉड” को
खो दिया हमने….. 😦 😦 😦 😦

************

Thanks Vishal for sharing this poem here. I still remember that JNV Katihar was not in a good condition for a certain time period (year 2002-04). However, he accomplished a drastic transformation of the school with his commendable positive attitude and a tremendous capacity as a loving devoted person, only within a few months of joining the school as the principal. Sir, we will always keep you in our memories and our heart! I wish you didn’t have to go away. I wish you were with us now. You left behind – a magnanimous family and a legacy that will be remembered not only as long as your students live but for the time immemorial.

Advertisements

11 Responses to “खो दिया हमने…!!!”

  1. Shweta Jha said

    I just followed each and every part of this poetry, Iqbal sir was really a masterpeice.

  2. Oinam Nabakishore Singh said

    I was Commissioner of NVS during 2004-2008. I really enjoyed reading this mail and poem by Vishal. Eventhough I have difficulty in placing Iqbal in my memeory, I had met him several times during the Conferences of principals at Patna. I am really proud of Iqbal and many more Iqbals in the Family of JNVs, who walk extra miles to create a bright future for the students. Let Iqbal rest in peace.

    PS. By the way, I am writing this mail at 5.20 AM. from the Hotel Room of Central Park in New York City, where I ahve come for learning/training.
    Wish you all good li

  3. RINKU KUMAR, BATCH-1995-2002 said

    very nice poem for a nice personality…. thanks vishal…

  4. rohit said

    अध्यापक वो होते हैं जो बिना किसी स्वार्थ के देश का भविष्य तैयार करते हैं। जब तक ऐसे शिक्षक हमारे देश में होंगे तब तक देश के भविष्य कि चिंता करने की जरुरत नहीं होते। इंसान की जिंदगी में सबसे अहम होता है वो विश्वास जो किसी भी विषम परिस्थिती में हार नहीं मानता….जो हर बार गिरने के बाद दोबारा खड़ा होने की कोशिश करने का जज्बा देता है…औऱ ये जज्बा किसी परीक्षा …किसी भी पद से कहीं ज्यादा बड़ा होता है औऱ देश के भविष्य को सुरक्षित करता है। ये कविता बता रही है कि ऐसे होंसले वाले बच्चों को तैयार किया है दिवंगत इकबार सर ने….भगवान उनकी आत्मा को शांति दे। परिजनों और आप सब को होंसला।

  5. Lopa Sarkar said

    This is a very heart felt poem to stir the soul. Thanks to Vishal for writing such a beautiful poem. I am sure God will give you strength and fortitude to withstand this most tragic loss. Mr.Iqbal is one example of dedication and affection that touched my heart.

  6. road said

    Hmm it looks like your blog ate my first comment (it was extremely long) so I guess I’ll just sum it up what I had written and say, I’m thoroughly enjoying your blog.
    I as well am an aspiring blog blogger but I’m still new to the whole thing. Do you have any points for rookie blog writers? I’d definitely appreciate it.

  7. sachin patro jnv ganjam odisha 2005-2012 said

    nicely wriiten bro…miss u jnv….

  8. […] खो दिया हमने…!!! […]

  9. […] खो दिया हमने…!!! […]

  10. aman said

    bhaut accha or touchy tha bhai….
    same things happened with us also at JNV,sriganganager,Rajasthan

  11. […] खो दिया हमने…!!! […]

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: