Turning the wheel…

…..when the blue water plays with the shore to tell something…..

उचित और अनुचित!

Posted by Rewa Smriti on January 21, 2009

मैने कुछ कॉमेंट्स को हटाया है. इसके कई वज़ह हैं, जिसके कारण मुझे ये कदम उठाना पड़ा. मैं पहले भी निवेदन कर चुकी हूँ कि शब्दों का प्रयोग सोच समझकर करें. आपको बोलने और अपनी बातों को अभिव्यक्त करने का पूरा अधिकार है, किंतु अधिकार और स्वतंत्रता का मतलब ये नही है कि कुछ भी लिखा जाए या अपशब्द लिखा जाए! हम इतने बड़े हैं कि हमे कोई मर्यादा में रहना नही सिखाने आएगा, और अगर हम अपने शब्दों का चयन सोच समझकर नहीं करना जानते हैं, तो इसे भी सीखना अनिवार्य है!

इस ब्लॉग को क्लास 6th के बच्‍चों से लेकर बुजुर्ग वर्ग भी पढ़ते हैं, और कैसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए, इतनी ज्ञान हम सभी को होना अति आवश्यक है. हमे अपनी भावनाओं को बिल्कुल व्यक्त करना चाहिए, साथ में ये भी ध्यान में रखना चाहिए जो भाषा व शब्द प्रयोग कर रहे, वो उचित है या अनुचित!

ये ब्लॉग कोई मैदान-ए-ज़ंग नही है, जहाँ जो जीता वही सिकंदर की उपाधि से नवाज़ा जाएगा! ना ही किसी को ओवर स्मार्ट बनने की कोशिश करनी चाहिए. इतना ध्यान रहे कि हमारी अभिव्यक्ति से हमारे व्यक्तित्व का परिचय होता है! हमारी अभिव्यक्ति से हमारे संस्कार का भी पता चलता है, जो हमे एक धरोहर के रूप में अपने परिवार से मिला हुआ है. मैं जहाँ अपशब्दों का इस्तेमाल होते हुए  देखूँगी, उसे यहाँ से हटा दूँगी, इसके लिए हमे ना तो दुख होगा, और ना ही कोई पश्‍चाताप होगा! आशा है आप इसे अन्यथा ना लेंगे.

One don’t need to be intellectual to understand this!

Advertisements

20 Responses to “उचित और अनुचित!”

  1. ranjeeta said

    A thought provoking peice! We must take care of our language

  2. Amit said

    A few words about everything.

  3. बहुत सुन्दर, बधाई

    —आपका हार्दिक स्वागत है
    चाँद, बादल और शाम

  4. Kiran said

    Our words reveal who we are. There are many important ways to use words. We must pay attention to our words while we express the idea.

  5. Nidhi said

    Evryday i read dis blog nd post d cmnt.some peple throw v cheap cmnts wich realy irritates me.its byond ridiculous bt i dnt knw hw to get thm to stop widout sounding worse.

    i wil tc of my wrds.

  6. nikhil said

    Uchit anuchit are purely subjective and not objective….!!

    Wat you feel uchit may be anuchit for others and vice versa…!!

    Our feelings should be spontaneous….if we start thinking wat is uchit aur anuchit for others….you will loose everything…..!!!

  7. Ranjeeta said

    I must say when a person have written very clearly, one must express his/her feelings carefully. Words and eggs must be handled with care.

  8. Shashwat said

    “Uchit anuchit are purely subjective and not objective….!!”

    What is uchit n anuchit all literate ppl can understand. Its clearly said by Rewa Ji that

    “शब्दों का प्रयोग सोच समझकर करें. आपको बोलने और अपनी बातों को अभिव्यक्त करने का पूरा अधिकार है, किंतु अधिकार और स्वतंत्रता का मतलब ये नही है कि कुछ भी लिखा जाए या अपशब्द लिखा जाए. इस ब्लॉग को क्लास 6th के बच्‍चों से लेकर बुजुर्ग वर्ग भी पढ़ते हैं, और कैसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए, इतनी ज्ञान हम सभी को होना अति आवश्यक है.”

    शब्दों का प्रयोग कैसे करें, क्या लिखे क्या नही, किस तरीके से बात करें, यह कोई बहस का विषय नही है| बस यही याद रखें हम अपने घर में बच्चों, बड़ों, बराबर वालों से कैसे बात करते हैं| Basic etiquettes.

  9. Gagandeep said

    “हमारी अभिव्यक्ति से हमारे संस्कार का भी पता चलता है जो हमे एक धरोहर के रूप में अपने परिवार से मिला हुआ है.”

    well saidji.

  10. sameer lal said

    सही कहा-उचित अनुचित का ख्याल तो रखना ही चाहिये.

  11. “i too agree with you….we should always use respectful words in a well mannerd way”

    Regards

  12. nikhil said

    If all literate people would have understood wat is uchit and anuchit…desh me koi anuchit prakar nahi hota…!!

    Its purely subjective….!! kya uchit hai aur kya nahi yeh samjhane ke liye uchit vyakti aur uchit soch ki jaroorat hoti hai…

  13. @Nikhil,

    आप यहाँ बहस ना करें, अगर आपको मेरी बात ठीक लगी तो माने, नही मानना है ना मानें. लेकिन अगर मैं जहाँ अनुचित शब्दों का इस्तेमाल होते हुए इस ब्लॉग पर देखूँगी, उसे यहाँ से हटा दूँगी. इसके लिए हमे दुख नही है, और ना ही कोई पश्‍चाताप होगा!

  14. nikhil said

    I am not interested in any arguement..Shashwat commented on my comment for no reason…and started “argument” I only replied…magar aapko aisahi lagega ki, mai bahes kar raha hoon…!!!

    Shashwat ki baat aapko Uchit lagi bur meri baat bahes….thats wat I am saying..uchit ya anuchit is subjective and to decide wat is uchit nd anuchit, sahi soch hona jaroori hai…!!!

    Its your blog and u can do watever u want..!!!

    Bahut sundar likha hai aapne..!!

    regards

  15. anupam said

    A very mature and learning post! I would certainly try my best to keep the above words intact in my mind while writing comments here! A promise!

  16. Vishal Prasun said

    हम इतने बड़े हैं कि हमे कोई मर्यादा में रहना नही सिखाने आएगा, और अगर हम अपने शब्दों का चयन सोच समझकर नहीं करना जानते हैं, तो इसे भी सीखना अनिवार्य है!

    People must learn to grow in the future.

  17. rohit said

    HI Rewa

    yaah Kahna Sahi hai, kai log sirf baal ki khaal nikalte hai, kafi Bahas ho gai hai…..

    Koi Nai kavita like do..or haaa……Tuhare Pyare PALASH Ka kia haal hai
    rohit

  18. mehek said

    sahi baat shabdon ko sambhalke likhana chahiye

  19. ishwar said

    i understand if any body doesnt understand the depth of feelings/emotions, wat is expessed through poems/articles n ppl start comtening all nonsence…. i think hame unape gussa karane k bazaye unake liye ham prarthana kare ki bhagwan unhe sahi cheej ko sahi maine mai samajhane ki sad-buddhi de …taaki wo bhi logo k prasansa/prem/aadar/samman/sneh k patr ban sake…aur unaki ginati aadami/insaan/manushy ki shreni ho sake, mujhe to ease logo par gussa aane k bazay taras/daya aata hai ……khair…. yadi unhe fir bhi samajh kam hai to ye uanake sanskaro/agyanata ka dosh hai , atah ham unhe unake haal par chhod de behatar hai ….kyo ki haathi k chalane par kutto k bhauk par haathi par koi asar nahi padata …. bhai ishwar

  20. Dr Vishwas Saxena said

    I would like to say that we express our views in accordance to our pshycho-social background,so is our language,at a platform where global viewing and expression goes on a few comments wrapped in indecent language appear like virus!we can not avert it.Nevertheless everyone who is an intellectual wont’consider them so no point in giving athought also to them.But raising a voice shall give them evil pleasure and you will find many more visible.In the course of life we come across all types of person and life goes on—.For argument I would say that until it is not absurd and meaningless there is nothing wrong–the authors have to become slightly tolerant—-everyone has a right to defend her/his esteem—isn’t it Rewa!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: