Turning the wheel…

…..when the blue water plays with the shore to tell something…..

धुंधले शब्द!

Posted by Rewa Smriti on December 13, 2008

कई मुद्दत्तों से
मेज पर रखी
सजी किताबों पर
जमी धूल से
धुंधले हुये
ख़ामोश शब्द
खोयी अपनी वज़ूद
और, छोड़ गयी
कुछ अफ़साने
कोमल हृदय को
फिर से रुलाने के लिए!

स्तब्ध मन
सुलगती रातें,
सन्नाटे को तोड़ती
जाने कहाँ से
आती धीमी आवाज़
और, वक़्त बेवक़्त
आभास कराते
ये धुंधले रास्ते
उन्ही धुंधले शब्दों में
किसी की नज़दीकियो का!

कुछ दूर चलके
सूनी अनजान
कच्ची राह पर
ये रुकते कदम
एहसास किया
तेरी इस नगरी में
इन दीवारों की भी
अपनी ज़ुबान होती है!
और, उनके शब्द
वे कभी धुंधले नही हुए!

Advertisements

16 Responses to “धुंधले शब्द!”

  1. neeraj said

    कमाल का शब्द संयोजन…बहुत खूबसूरत रचना….
    नीरज

  2. abhi said

    you are missing something! it looks from the poem.quite good as usual.

  3. mehek said

    आती धीमी आवाज़
    और, वक़्त बेवक़्त
    आभास कराती
    ये धुंधले रास्ते
    उन्ही धुंधली शब्दों में
    किसी की नज़दीकियो का!
    sach ar aisa aabhaas hota hai kabhi kabhi,magar dhundhli tasver dikhati hai aur dhundhle shabdhhi joor se sunai detehai,hai na,bahut hi gehre bhav saji sundar kavita badhai.

  4. shashwat said

    “इन दीवारों की भी
    अपनी ज़ुबान होती है!”
    और
    “सन्नाटे को तोड़ती
    जाने कहाँ से
    आती धीमी आवाज़” गहरे अहसास कराती है |
    आवाज है वो भी धीमी, सन्नाटे को तोड़ती है लेकिन नहीं पता कहाँ से आ रही है वह आवाज, पता चले तो शायद उसका पता भी पा सकें | ऊपर से धुंधले शब्द, धुंधले रास्ते | मन की व्यथा को अच्छा दर्शाया है आपने | सुच है उस वक्त आवाज का पता नही मिलता, शब्द धुंधले लगते है|

  5. अच्छा िलखा है आपने । जीवन के सच को प्रभावशाली तरीके से शब्दबद्ध िकया है । मैने अपने ब्लाग पर एक लेख िलखा है -आत्मिवश्वास के सहारे जीतें िजंदगी की जंग-समय हो तो पढें और कमेंट भी दें-

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

  6. Shabd nahin mil rahe…..

  7. Nidhi said

    स्तब्ध मन
    सुलगती रातें,
    सन्नाटे को तोड़ती
    जाने कहाँ से
    आती धीमी आवाज़
    और, वक़्त बेवक़्त
    आभास कराती
    ये धुंधले रास्ते
    उन्ही धुंधली शब्दों में
    किसी की नज़दीकियो का!

    A beautiful sad piece.it has somthing 2 say 2 d 1 u love.i wud hav responded sooner bt i ws at a loss fr words.

    chaand dhundhla sahi gam nahi hai mujhe
    teri rahon par raton ka saya na ho.
    har khushi ho wahaan tu jahaan v rahe..

  8. sandesh said

    Nice feelings !!!

    http://www.sandesh.co.nr

  9. Dr Anurag said

    बहुत खूब… ये पंक्तिया जीवन का सच कहती है

    कुछ दूर चलके
    सूनी अनजान
    कच्ची राह पर
    ये रुकते कदम
    एहसास किया
    तेरी इस नगरी में
    इन दीवारों की भी
    अपनी ज़ुबान होती है!
    और, उनके शब्द
    वे कभी धुंधले नही हुए!

  10. कुछ दूर चलके
    सूनी अनजान
    कच्ची राह पर
    ये रुकते कदम
    एहसास किया
    तेरी इस नगरी में
    इन दीवारों की भी
    अपनी ज़ुबान होती है!
    और, उनके शब्द
    वे कभी धुंधले नही हुए!

    हाँ दीवारों की भी जुबां होते हैं……भौतिक विज्ञानं भी मानता है …..तो मै क्यों न…

  11. Kiran said

    इन दीवारों की भी
    अपनी ज़ुबान होती है!
    और, उनके शब्द
    वे कभी धुंधले नही हुए!

    Sune the kee deewaron ke kaan hote hain. Ab ye bolne bhi lagi. Very good.

  12. rohit said

    Rewa
    Diwaro ke bhi kaan hote hai, Juban hoti hai sahi kaha hai….Khamosh divare to kafi dekha or suna hai…har divar kuch kahta hai….

    Waise kavita badia hai…

    NOTE

    Ab kabhi jana ho to laptop le ker jana yaa bata ke jana kitne din ja rahi ho …Undersantd ….

    Rohit

  13. muflis said

    “jane kahaaN se aati dhimi aawaaz, aur waqt bewaqt aabhaas kraati..unheeN dhundle shabdoN meiN kisi ki nazdiqiyoN ka…”
    bahot hi pur.asar andaaz meiN..lafz.dr.lafz.. ek mukammel nazm kahi hai aapne.
    apne aap dil meiN kaheeN gehre utar jane wali rachna..!
    badhaaee svikaareiN .
    —MUFLIS—

  14. @Muflis,

    Aapka swagat hai is blog per. Aapko bahut bahut shukriya yahan pahli baar aane ke liye, aur kuch mahtavpurn shabden yahan likhne ke liye. Asha karti hun aap yun hi aksar hamare blog per aate rahenge aur mujhe protsahit karte rahenge.

    Shukriya.

  15. Tarun said

    bahut hi achhi kavita hai ..

    -tarun

  16. स्तब्ध मन
    सुलगती रातें,
    सन्नाटे को तोड़ती
    जाने कहाँ से
    आती धीमी आवाज़
    और, वक़्त बेवक़्त
    आभास कराते
    ये धुंधले रास्ते
    उन्ही धुंधले शब्दों में
    किसी की नज़दीकियो का!

    long ago I too countered such an emotional state and in those days only I wrote a poem.since I am a warrior none of my pains could make me cry ,rather a few made smile more
    one such sensation is depicted in my poem entitled:
    ———-FOR A WHILE
    On the lifes’slope
    aimless I rolled
    Forgetting self I
    lived to behold
    Dust scattering
    on my memory pane
    forgetting you I,
    forgot myself then.
    Till for a moment you
    passed from near
    resting your palm you
    left your mark there
    under your palms’ reach
    dust scattered to teach!
    —- Dizzy may go images bright
    away people go from sight—–
    but you cherish thy memories few
    cause precious are those to you
    for they can earn you a smile
    if not forlong ,may be for a while
    —may be for a while!
    [self composed poem written on 25 aug’1996]
    dr vishwas saxena

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: